जो धर्म जिन लोगों पर अत्याचार जुल्म और कहर ढाता है । वे लोग उस धर्म के अंग हो सकते हैं ?